Home / राष्ट्रीय / अटल के अस्थि विसर्जन के खर्च पर पेच फंसा, कोई विभाग भुगतान के ल‍िए तैयार नहीं

अटल के अस्थि विसर्जन के खर्च पर पेच फंसा, कोई विभाग भुगतान के ल‍िए तैयार नहीं

LUCKNOW. पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी बाजपेयी के अस्थि विसर्जन का खर्च कोई विभाग उठाने को तैयार नहीं है। विसर्जन में हुए खर्च की फाइल पिछले 10 महीने से एक आफिस से दूसरे आफिस घूम रही है। फिर भी कोई बजट देने को तैयार नहीं है। सूचना विभाग ने तो साफ लिख दिया है कि इस तरह के कार्यक्रम, आयोजन के लिए बजट में कोई भी व्यवस्था नहीं है। ऐसे में इसके लिए बजट का भुगतान करना संभव नहीं है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी अपनी भाषणों में लालफीता शाही पर सवाल उठाया करते हैं लेकिन अब उनके निधन के…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

LUCKNOW. पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी बाजपेयी के अस्थि विसर्जन का खर्च कोई विभाग उठाने को तैयार नहीं है। विसर्जन में हुए खर्च की फाइल पिछले 10 महीने से एक आफिस से दूसरे आफिस घूम रही है। फिर भी कोई बजट देने को तैयार नहीं है। सूचना विभाग ने तो साफ लिख दिया है कि इस तरह के कार्यक्रम, आयोजन के लिए बजट में कोई भी व्यवस्था नहीं है। ऐसे में इसके लिए बजट का भुगतान करना संभव नहीं है।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी अपनी भाषणों में लालफीता शाही पर सवाल उठाया करते हैं लेकिन अब उनके निधन के बाद उन्हीं की अस्थि विर्सजन की फाइल लालफीता शाही की भेंट चढ़ गयी है। उनके अस्थि विसर्जन पर हुए खर्च के भुगतान की फाइल लगातार इस अफसर से उस अफसर की टेबल पर घुम रही है। फाइल दौड़ते-घूमते 10 महीने से अधिक समय बीत चुका है।

एलडीए सचिव एमपी सिंह ने शासन को नौ जनवरी 2019 को शासन को पत्र लिखा था। कोई कार्रवाई नहीं हुई तो 15 मार्च 2019 को उन्होंने फिर शासन को बजट देने के लिए पत्र लिखा लेकिन इस बार जो जवाब आया उसने चौंका दिया। शासन के संबंधित विभाग ने 15 मई 2019 को भेजे पत्र में साफ लिखा है कि इस तरह के आयोजन व कार्यक्रम के खर्च के लिए बजट में कोई व्यवस्था नहीं है।

अस्थि विसर्जन में खर्च हुए थे 2.54 करोड़ रुपये
गोमती नदी के किनारे हुए अटल के अस्थि विसर्जन कार्यक्रम में कुल दो करोड़ 54 लाख 29 हजार 250 रुपये खर्च हुआ था। टेंट, स्टेज, साउण्ड सिस्टम, लाइटिंग, बैरीकेडिंग सहित तमाम कामों में यह रकम खर्च हुई थी। उस समय इसके लिए बजट नहीं दिया गया था। शासन ने बाद में बजट देने की बात कही थी लेकिन अब अधिकारी बजट न होने की बात कह रहे हैं।

अस्थि विसर्जन में सीएम, गृहमंत्री सहित तमाम मंत्री व नेता हुए थे शामिलपूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की अस्थियों के विसर्जन के लिए 23 अगस्त 2018 को हनुमान सेतु के पास गोमती नदी के किनारे कार्यक्रम आयोजित हुआ था। तत्कालीन गृहमंत्री व वर्तमान में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह खुद विशेष विमान से अटल की अस्थियां लेकर लखनऊ आए थे। यहां एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व राज्यपाल राम नाइक, दोनों उप मुख्यमंत्रियों सहित तमाम मंत्री मौजूद थे। अस्थिकलश यात्रा के नदी किनारे समारोह आयोजित था। यहां भी सीएम सहित सभी बड़े नेता व मंत्री मौजूद थे।

प्रयास किया जा रहा है कि अस्थि विर्सजन का पैसा मिल जाए। इसके लिए लगातार लिखा पढ़ी की जा रही है। सूचना विभाग से ही पैसा मिलना है। वित्त विभाग ने भी आपत्तियां लगायी हैं। बजट न मिलने से कार्यक्रम आयोजित करने वाली कम्पनी को पैसा नहीं दिया जा सका है।
एमपी सिंह, सचिव, एलडीए

LUCKNOW. पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी बाजपेयी के अस्थि विसर्जन का खर्च कोई विभाग उठाने को तैयार नहीं है। विसर्जन में हुए खर्च की फाइल पिछले 10 महीने से एक आफिस से दूसरे आफिस घूम रही है। फिर भी कोई बजट देने को तैयार नहीं है। सूचना विभाग ने तो साफ लिख दिया है कि इस तरह के कार्यक्रम, आयोजन के लिए बजट में कोई भी व्यवस्था नहीं है। ऐसे में इसके लिए बजट का भुगतान करना संभव नहीं है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी अपनी भाषणों में लालफीता शाही पर सवाल उठाया करते हैं लेकिन अब उनके निधन के…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

About Dheeraj Bansal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

स्वर कोकिला के लिए प्रार्थना का समय

(राकेश अचल) देश के राजनेताओं की लम्बी उम्र के लिए आनन-फानन में ...