Home / ग्वालियर / भ्रष्टाचार के दलदल में डूबे सहकारी निरीक्षक आहूजा, शिकायतें पर कार्रवाई अब तक नहीं

भ्रष्टाचार के दलदल में डूबे सहकारी निरीक्षक आहूजा, शिकायतें पर कार्रवाई अब तक नहीं

ग्वालियर। ग्वालियर में सहकारी निरीक्षक अजय आहूजा के खिलाफ भ्रष्टाचार और खराब कार्यप्रणाली की तमाम शिकायतों के बाद अब तक कार्रवाई का अता पता नहीं है। अपने कार्यकाल में आहूजा ने कई प्रकार के कारनामों को बखूबी अंजाम देकर मामलों को आसानी से दबा भी दिया। कहा जाता है कि उनकी उपर तक सेटिंग है जिसके चलते अब तक कार्रवाई से बच रहे है। यहां बता दें कि आरटीआई कार्यकर्ता बीके शर्मा ने सहकारी निरीक्षक अजय आहूजा की कारगुजारियों को लेकर विभाग में कई शिकायतें की हैं। जिसमें ईओडब्ल्यू में भ्रष्टाचार से लेकर संस्थाओं में प्रशासक की नियुक्ति में करोडों…

Review Overview

User Rating: 4.28 ( 5 votes)

ग्वालियर। ग्वालियर में सहकारी निरीक्षक अजय आहूजा के खिलाफ भ्रष्टाचार और खराब कार्यप्रणाली की तमाम शिकायतों के बाद अब तक कार्रवाई का अता पता नहीं है। अपने कार्यकाल में आहूजा ने कई प्रकार के कारनामों को बखूबी अंजाम देकर मामलों को आसानी से दबा भी दिया। कहा जाता है कि उनकी उपर तक सेटिंग है जिसके चलते अब तक कार्रवाई से बच रहे है।
यहां बता दें कि आरटीआई कार्यकर्ता बीके शर्मा ने सहकारी निरीक्षक अजय आहूजा की कारगुजारियों को लेकर विभाग में कई शिकायतें की हैं। जिसमें ईओडब्ल्यू में भ्रष्टाचार से लेकर संस्थाओं में प्रशासक की नियुक्ति में करोडों का गबन, तिघरा बांध पर मछली ठेके में रिश्वत मांगना आदि प्रमुख हैं। वर्तमान में शासकीय धन का पलीता लगाने का मामला गर्म है। सहकारी बाजार पर जिला सहकारी बैंक का दो करोड़ से अधिक रूपया वापस न किया जाना है, जिसको सहकारी बैंक की आय बढ़ाने के उददेश्य से लिया गया था। वहीं सहकारी बाजार में इण्डेन गैस के वितरण में भी धांधली की शिकायतें लगातार सामने आ रही है। लेकिन इतनी शिकायतों के बाद भी आहूजा का जलवा बरकरार है और कारगुजारियां भी। देखना है कि विभाग की आंखें कब खुलती है और आहूजा पर कर्रवाई का शंखनाद कब होगा। अब तक कार्रवाई नहीं होने से शिकायतकर्ता काफी दुखी है।

ग्वालियर। ग्वालियर में सहकारी निरीक्षक अजय आहूजा के खिलाफ भ्रष्टाचार और खराब कार्यप्रणाली की तमाम शिकायतों के बाद अब तक कार्रवाई का अता पता नहीं है। अपने कार्यकाल में आहूजा ने कई प्रकार के कारनामों को बखूबी अंजाम देकर मामलों को आसानी से दबा भी दिया। कहा जाता है कि उनकी उपर तक सेटिंग है जिसके चलते अब तक कार्रवाई से बच रहे है। यहां बता दें कि आरटीआई कार्यकर्ता बीके शर्मा ने सहकारी निरीक्षक अजय आहूजा की कारगुजारियों को लेकर विभाग में कई शिकायतें की हैं। जिसमें ईओडब्ल्यू में भ्रष्टाचार से लेकर संस्थाओं में प्रशासक की नियुक्ति में करोडों…

Review Overview

User Rating: 4.28 ( 5 votes)

About Dheeraj Bansal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

उपचुनाव: ग्वालियर में बनेगा कांग्रेस का चुनाव मुख्यालय, कमलनाथ के लिए बंगले की तलाश

ग्वालियर। मध्यप्रदेश की 24 सीटों के लिए विधानसभा उपचुनाव की तैयारियां शुरू ...