Home / ग्वालियर / भाजपा अनुभवी, सामान्य कार्यकर्ता व कांग्रेस पार्षद, ब्लाक अध्यक्षों को मतगणना के लिए भेजेगी

भाजपा अनुभवी, सामान्य कार्यकर्ता व कांग्रेस पार्षद, ब्लाक अध्यक्षों को मतगणना के लिए भेजेगी

ग्वालियर। जिले में भाजपा व कांग्रेस के बीच आमने-सामने का मुकाबला है। मतगणना का काउन डाउन शुरु हो गया है। प्रत्याशियों ने अपने-अपने स्तर पर मतगणना की रणनीति बनाना शुरु कर दी है। किन-किन मतदान केंद्रों पर कितना-कितना मतदान हुआ है। इसका डाटा एकत्रित किये जा रहा है। ताकि मतगणना एजेंट को यह पता हो कि किस मतदान केंद्र पर कितने मत पड़े थे। इसके साथ ही मतगणना एजेंटों की मदद के लिए विधि विशेषज्ञों की टीम मतगणना स्थल के साथ-साथ बाहर भी मौजूद रहेंगें। निर्दलीय उम्मीदवारों के एजेंट भी विचारधार के अनुसार भाजपा व कांग्रेस की मदद करेंगें। भाजपा…

Review Overview

User Rating: Be the first one !


ग्वालियर। जिले में भाजपा व कांग्रेस के बीच आमने-सामने का मुकाबला है। मतगणना का काउन डाउन शुरु हो गया है। प्रत्याशियों ने अपने-अपने स्तर पर मतगणना की रणनीति बनाना शुरु कर दी है। किन-किन मतदान केंद्रों पर कितना-कितना मतदान हुआ है। इसका डाटा एकत्रित किये जा रहा है। ताकि मतगणना एजेंट को यह पता हो कि किस मतदान केंद्र पर कितने मत पड़े थे। इसके साथ ही मतगणना एजेंटों की मदद के लिए विधि विशेषज्ञों की टीम मतगणना स्थल के साथ-साथ बाहर भी मौजूद रहेंगें।
निर्दलीय उम्मीदवारों के एजेंट भी विचारधार के अनुसार भाजपा व कांग्रेस की मदद करेंगें। भाजपा ने सामान्य व अनुभवी कार्यकर्ताओं के साथ प्रत्याशियों के नजदीकी लोगों के नाम मतगणना के लिए भेजा है। एग्जिट पोल के बाद भाजपा अपनी रणनीति में कुछ फेरबदल कर सकती है। जबकि कांग्रेस नगर निगम चुनाव में मतगणना कराने वाले अनुभवी ब्लाक अध्यक्ष व पार्षदों के साथ अड़ने वाले चेहरे को मतगणना में ड्यूटी लगा रही है। लोकसभा से लेकर नगर निगम के चुनाव का काम देख चुके पारस जैन का कहना है कि भाजपा को देश की निर्वाचन प्रक्रिया पर भरोसा है। इसलिए मतगणना को लेकर भाजपा ज्यादा तनाव नही ले रही है। संगठन स्तर पर मतगणना स्थल पर ऐसे कार्यकर्ताओं की सूची बनाई हैं। जिन्हें पहले से मतगणना का अनुभव हो और सामान्य कार्यकर्ता हो। इसके साथ ही प्रत्याशी के नजदीकी लोगों को मतगणना टीम में शामिल किया गया है। मतगणना में गिनती जिला प्रशासन करता है। केवल कार्यकर्ताओं को वोटों का हिसाब-किताब रखना होता है। इसलिए धैर्यवान कार्यकर्ताओं को मतगणना के लिए भेजा जा रहा है। जो कि अंत तक अपनी टेबल नहीं छोड़े।
तीनों विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस के पार्षद अच्छी संख्या में है। इन पार्षदों को नगर निगम चुनाव में मतगणना कराने का अनुभव भी है। कांग्रेस प्रत्याशी सुनील शर्मा ने बताया कि एग्जिट पोल से साफ हो गया है कि कांग्रेस बढ़त में हैं और सरकार बना रही है। इसलिए सत्ता पक्ष नजदीकी मामलों में कोई हेरफेर नहीं कर सके, इसके लिए ब्लाक अध्यक्षों को भी मतगणना के लिए भेजा जा रहा है। इन लोगों ने नगर निगम चुनाव में मतगणना कराई है। दोनों दल मतगणना के लिए विशेषज्ञ होमवर्क कर रहे हैं। परंपरागत रूप से मतगणना प्रतिनिधियों के लिए चार्ट तैयार किया गया है। इस चार्ट में विधानसभा का नाम, मतदान केंद्र का नाम , ईवीएम नंबर, और चुनाव में कुल कितना मतदान हुआ। इसके नीचे प्रत्याशियों के नाम राउंडभर है। बस हर राउंड में किस प्रत्याशी को किस मतदान केंद्र पर कितने वोट मिले इसकी संख्या भरनी हैं।

ग्वालियर। जिले में भाजपा व कांग्रेस के बीच आमने-सामने का मुकाबला है। मतगणना का काउन डाउन शुरु हो गया है। प्रत्याशियों ने अपने-अपने स्तर पर मतगणना की रणनीति बनाना शुरु कर दी है। किन-किन मतदान केंद्रों पर कितना-कितना मतदान हुआ है। इसका डाटा एकत्रित किये जा रहा है। ताकि मतगणना एजेंट को यह पता हो कि किस मतदान केंद्र पर कितने मत पड़े थे। इसके साथ ही मतगणना एजेंटों की मदद के लिए विधि विशेषज्ञों की टीम मतगणना स्थल के साथ-साथ बाहर भी मौजूद रहेंगें। निर्दलीय उम्मीदवारों के एजेंट भी विचारधार के अनुसार भाजपा व कांग्रेस की मदद करेंगें। भाजपा…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

About Dheeraj Bansal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

जेएएच में ताक पर रखकर चल रहे बूथ, अफसर कर रहे हर दिन दो हजार की वसूली

भास्करप्लस जयारोग्य अस्पताल में संचालित बूथ अफसरों के मुनाफे का जरिया बन ...