Home / ग्वालियर / आदिवासी बाहुल्य गुर्री गांव गोद लिया, संत रविदास का मंदिर भी बनेगा

आदिवासी बाहुल्य गुर्री गांव गोद लिया, संत रविदास का मंदिर भी बनेगा

ग्वालियर। आदिवासी समुदाय ने समूचे देश में प्रकृति और संस्कृति को संरक्षित करने का कार्य किया है। स्वतंत्रता आंदोलन में आदिवासी नायकों ने अंग्रेजों से मुकाबला करते हुए मुंहतोड़ जवाब दिया था। आदिवासी समुदाय के हितों को ध्यान में रखते हुए आदिवासी बाहुल्य ग्राम गुर्री को गोद लेकर उसका सर्वांगीण विकास करने के साथ-साथ ग्वालियर में चयनित स्थान पर संत रविदास का मंदिर भी बनाया जाएगा। यह बात उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री (स्वतंत्र) प्रभार भारत सिंह कुशवाह ने कही। वे मंगलवार विश्व आदिवासी दिवस समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता बीज निगम के…

Review Overview

User Rating: 3.6 ( 1 votes)

ग्वालियर। आदिवासी समुदाय ने समूचे देश में प्रकृति और संस्कृति को संरक्षित करने का कार्य किया है। स्वतंत्रता आंदोलन में आदिवासी नायकों ने अंग्रेजों से मुकाबला करते हुए मुंहतोड़ जवाब दिया था। आदिवासी समुदाय के हितों को ध्यान में रखते हुए आदिवासी बाहुल्य ग्राम गुर्री को गोद लेकर उसका सर्वांगीण विकास करने के साथ-साथ ग्वालियर में चयनित स्थान पर संत रविदास का मंदिर भी बनाया जाएगा। यह बात उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री (स्वतंत्र) प्रभार भारत सिंह कुशवाह ने कही। वे मंगलवार विश्व आदिवासी दिवस समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता बीज निगम के अध्यक्ष मुन्नालाल गोयल ने की। अति विशिष्ट अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष दुर्गेश कुंवर सिंह जाटव थीं। विशिष्ट अतिथि के रूप में जिला पंचायत सीईओ आशीष तिवारी, एडीएम एचबी शर्मा, एसडीएम पुष्पा पुषाम, जीआरएमसी डीन डॉ. अक्षय निगम, सहायक आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग एचबी शर्मा व भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य आशीष प्रताप सिंह राठौड़ उपस्थित थे। कार्यक्रम का प्रारंभ भगवान बिरसा मुंडा, टंट्या भील, संत रविदास व संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। अध्यक्षीय उद्बोधन में बीज निगम के अध्यक्ष मुन्नालाल गोयल ने कहा कि आदिवासीय समाज प्रकृति के देवता हैं। हमें मानव जीवन को बचाने के लिए प्रकृति संरक्षण को जन आंदोलन बनाना होगा। इससे पहले मुख्य वक्ता डॉ. सत्यप्रकाश शर्मा ने आदिवासियों के अधिकार व उनके संरक्षण के लिए बनाए गए कानूनों की जानकारी दी। कार्यक्रम का संचालन डॉ. रवि अंबे व आभार सह संयोजक रामेश्वर राम पटेल ने व्यक्त किया।
प्रतिभाओं का हुआ सम्मान
कार्यक्रम में मुरार ग्रामीण एसडीएम पुष्पा पुषाम, बैंक ऑफ इंडिया के चीफ मैनेजर दीपक कुजूर, सीएम राइज कन्या विद्यालय की प्राचार्य मनोरमा नायक, जीआरएमसी के पैथोलॉजी विभाग के सहायक प्राध्यापक डॉ. गजेंद्र पाल सिंह, राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि यूनिवर्सिटी के कुलदीप त्रिवेदी को मूल निवासी गौरव अलंकरण सम्मान दिया गया।
पारंपरिक नृत्य करते हुए निकाली रैली
आदिवासी दिवस पर सुबह 11 फूलबाग स्थित चौराहे से रैली निकाली गई। रैली में जिले भर से आए उरांव एवं अन्य आदिवासी समाज के लोग पारंपरिक वाद्ययंत्र बजाते हुए व पारंपरिक वेशभूषा में आदिवासी नृत्य करते हुए चल रहे थे। रैली फूलबाग चौराहे से शुरू होकर वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई प्रतिमा स्थल, पड़ाव, रेलवे स्टेशन, थाटीपुर होते हुए कार्यक्रम स्थल पहुंची। यहां संगठन की अध्यक्ष जगपति भगत, जतरु राम भगत, प्रियंका भगत, सुशीला भगत व वासुदेव भगत की टीमों ने हाय रे सरबुजा नाचे…छोटा नागपुर… जैसे गीतों पर नृत्य प्रस्तुतियां दी। तो वहीं मंत्री व बीज निगम के अध्यक्ष ने पुष्पवर्षा कर उनका स्वागत किया।

ग्वालियर। आदिवासी समुदाय ने समूचे देश में प्रकृति और संस्कृति को संरक्षित करने का कार्य किया है। स्वतंत्रता आंदोलन में आदिवासी नायकों ने अंग्रेजों से मुकाबला करते हुए मुंहतोड़ जवाब दिया था। आदिवासी समुदाय के हितों को ध्यान में रखते हुए आदिवासी बाहुल्य ग्राम गुर्री को गोद लेकर उसका सर्वांगीण विकास करने के साथ-साथ ग्वालियर में चयनित स्थान पर संत रविदास का मंदिर भी बनाया जाएगा। यह बात उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री (स्वतंत्र) प्रभार भारत सिंह कुशवाह ने कही। वे मंगलवार विश्व आदिवासी दिवस समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता बीज निगम के…

Review Overview

User Rating: 3.6 ( 1 votes)

About Dheeraj Bansal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

सड़कों पर सियासत! मुन्नालाल ने सतीश सिकरवार को भूमाफिया कहा, सतीश ने मुन्नालाल गोयल को सिंधिया का अंधभक्त बताया

ग्वालियर। मध्य प्रदेश के ग्वालियर में लगातार जर्जर सड़कों पर हो रही ...