Home / देखी सुनी / निगम-मंडल: इमरती देवी, मुन्नालाल व गिर्राज दंडोतिया का होगा पुनर्वास

निगम-मंडल: इमरती देवी, मुन्नालाल व गिर्राज दंडोतिया का होगा पुनर्वास

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के चार समर्थक नेताओं को निगम-मंडल में जगह दिए जाने पर लगभग सहमति बन गई है। माना जा रहा है कि इमरती देवी, ऐदल सिंह कंषाना, मुन्नालाल गोयल व गिर्राज दंडोतिया का पुनर्वास हो जाएगा। उन्हें निगम-मंडल में अध्यक्ष बनाया जा सकता है। बता दें कि पिछले भोपाल प्रवास के दौरान सिंधिया की शिवराज और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के साथ हुई बैठक में इन चार नामों को लेकर चर्चा हुई थी। इनके अलावा सिंधिया के समर्थक रणवीर जाटव, पंकज चतुर्वेदी, रक्षा संतराम सिरोलिया और जसपाल सिंह जज्जी को राजनीतिक पद मिल सकता है।

Review Overview

User Rating: 4.54 ( 4 votes)

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के चार समर्थक नेताओं को निगम-मंडल में जगह दिए जाने पर लगभग सहमति बन गई है। माना जा रहा है कि इमरती देवी, ऐदल सिंह कंषाना, मुन्नालाल गोयल व गिर्राज दंडोतिया का पुनर्वास हो जाएगा। उन्हें निगम-मंडल में अध्यक्ष बनाया जा सकता है। बता दें कि पिछले भोपाल प्रवास के दौरान सिंधिया की शिवराज और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के साथ हुई बैठक में इन चार नामों को लेकर चर्चा हुई थी। इनके अलावा सिंधिया के समर्थक रणवीर जाटव, पंकज चतुर्वेदी, रक्षा संतराम सिरोलिया और जसपाल सिंह जज्जी को राजनीतिक पद मिल सकता है।
केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के चार समर्थक नेताओं को निगम-मंडल में जगह दिए जाने पर लगभग सहमति बन गई है। माना जा रहा है कि इमरती देवी, ऐदल सिंह कंषाना, मुन्नालाल गोयल व गिर्राज दंडोतिया का पुनर्वास हो जाएगा। उन्हें निगम-मंडल में अध्यक्ष बनाया जा सकता है। बता दें कि पिछले भोपाल प्रवास के दौरान सिंधिया की शिवराज और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के साथ हुई बैठक में इन चार नामों को लेकर चर्चा हुई थी। इनके अलावा सिंधिया के समर्थक रणवीर जाटव, पंकज चतुर्वेदी, रक्षा संतराम सिरोलिया और जसपाल सिंह जज्जी को राजनीतिक पद मिल सकता है।

Review Overview

User Rating: 4.54 ( 4 votes)

About Dheeraj Bansal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

डा. एचपी सिंह पर राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विवि के कुलपति की मेहरबानी?

वैसे कहावत सही है अंधा बांटे रेवडी चीन-चीन को दे इसी काम ...