Home / ग्वालियर / महादेव मेडिकल एंड सर्जिकल स्टोर से कोरोना की नकली दवा बरामद

महादेव मेडिकल एंड सर्जिकल स्टोर से कोरोना की नकली दवा बरामद

ग्वालियर। ओडिशा के कटक में कोरोना संकट काल में नकली दवाई की सप्लाई करने का मामला सामने आया है. अब उसके तार ग्वालियर से भी जुड़ गए हैं. कटक में पकड़े गए मेडिकल संचालक ने ग्वालियर में सप्लाई होने की बात कही थी, जिसके बाद ग्वालियर ड्रग इंस्पेक्टर ने फेबिमैक्स टेबलेट डीलर महादेव मेडिकल एंड सर्जिकल स्टोर जाकर पता किया. मेडिकल स्टोर संचालक ने बताया कि अप्रैल महीने में लगभग 40,000 टेबलेट मंगाई गई थीं. ओडिशा के कटक में छापामार कार्रवाई के बाद बरामद की गई मॉलिक्यूल फेवीपेराविर की फेवीमैक्स टेबलेट की जांच के बाद खुलासा हुआ है कि यह…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

ग्वालियर। ओडिशा के कटक में कोरोना संकट काल में नकली दवाई की सप्लाई करने का मामला सामने आया है. अब उसके तार ग्वालियर से भी जुड़ गए हैं. कटक में पकड़े गए मेडिकल संचालक ने ग्वालियर में सप्लाई होने की बात कही थी, जिसके बाद ग्वालियर ड्रग इंस्पेक्टर ने फेबिमैक्स टेबलेट डीलर महादेव मेडिकल एंड सर्जिकल स्टोर जाकर पता किया. मेडिकल स्टोर संचालक ने बताया कि अप्रैल महीने में लगभग 40,000 टेबलेट मंगाई गई थीं.
ओडिशा के कटक में छापामार कार्रवाई के बाद बरामद की गई मॉलिक्यूल फेवीपेराविर की फेवीमैक्स टेबलेट की जांच के बाद खुलासा हुआ है कि यह दवा नकली है. कंपनी ने हजारों लोगों के साथ दवा के नाम पर धोखा किया है. कटक में कोरोना की 17000 डुप्लीकेट टेबलेट मिलने के बाद उड़ीसा ड्रग कंट्रोल विभाग पिछले दो दिनों से लगातार तहकीकात में जुटा है. ड्रग कंट्रोल डिपार्टमेंट से मिली सूचना के अनुसार इन दवाओं का एक लॉट मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में भेजा गया था. ग्वालियर में माधव डिस्पेंसरी के सामने एमके प्लाजा में महादेव मेडिकल एंड सर्जिकल है और उसने लगभग 200 बॉक्स की दवाई ग्वालियर के साथ-साथ अन्य जिलों में भी सप्लाई की है. ओडिशा ड्रग कंट्रोलर की तरफ से ग्वालियर के ड्रग इंस्पेक्टर को इसकी जांच करने के लिए कहा गया. कोरोना की नकली दवा की सप्लाई चंबल संभाग के अलग-अलग मेडिकल स्टोरों पर की गई. यह दवाइयां प्रोपर बिलिंग के साथ थीं, इसलिए उसको नकली होने की आशंका नजर नहीं आई. ड्रग इंस्पेक्टर कि वहां से लगभग 500 टेबलेट बरामद हुई हैं, जिसके बाद 300 से अधिक टेबलेट को सैंपल के लिए सोमवार को भोपाल भेजा जाएगा, बाकी को जब्त कर लिया गया है.
अंचल के जिन मेडिकल स्टोर से दवा सप्लाई की गई है, वहां दवा की तत्काल सप्लाई रोकेने के निर्देश दिए गए हैं. सभी फेबिमैक्स टेबलेट मामले की जांच कर रहे ग्वालियर के ड्रग इंस्पेक्टर दिलीप अग्रवाल का कहना है कि कटक में जो टेबलेट बरामद हुई हैं. वह पूरी तरीके से नकली हैं. जिस फैक्ट्री में मैन्युफैक्चरिंग बताई गई है, हिमाचल में वह फैक्ट्री नहीं है. उन्होंने कहा कि कटक में हुई प्रारंभिक जांच में पता चला है कि इस टेबलेट में कोई भी मॉलिक्यूल नहीं है. हालांकि ग्वालियर पहुंची टेबलेट की क्या स्थिति है. इसका खुलासा जांच रिपोर्ट आने के बाद ही हो सकेगा.
टेबलेट में नहीं पाया गया कोई मॉलिक्यूल
टेबलेट में कोई मॉलिक्यूल नहीं पाया गया है. ऐसे में इसे उपयोग करने वाले मरीजों को किसी भी तरह के साइड इफेक्ट की आशंका बेहद ही कम है. हालांकि इस नकली दवा के कारोबार के बाद तमाम तरह के सवाल भी खड़े हो रहे हैं.

ग्वालियर। ओडिशा के कटक में कोरोना संकट काल में नकली दवाई की सप्लाई करने का मामला सामने आया है. अब उसके तार ग्वालियर से भी जुड़ गए हैं. कटक में पकड़े गए मेडिकल संचालक ने ग्वालियर में सप्लाई होने की बात कही थी, जिसके बाद ग्वालियर ड्रग इंस्पेक्टर ने फेबिमैक्स टेबलेट डीलर महादेव मेडिकल एंड सर्जिकल स्टोर जाकर पता किया. मेडिकल स्टोर संचालक ने बताया कि अप्रैल महीने में लगभग 40,000 टेबलेट मंगाई गई थीं. ओडिशा के कटक में छापामार कार्रवाई के बाद बरामद की गई मॉलिक्यूल फेवीपेराविर की फेवीमैक्स टेबलेट की जांच के बाद खुलासा हुआ है कि यह…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

About Dheeraj Bansal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

टोलकर्मियों ने मांगा टैक्स तो बदमाशों ने बरसा दी गोलियां

ग्वालियर। शहर से बाहर टोल टैक्स के पैसे मांगने पर कार सवार ...