Home / प्रदेश / मप्र छत्तीसगढ़ / MP: जल्द बढ़ सकते हैं बिजली के दाम, छह प्रतिशत दर बढ़ाने की याचिका पेश

MP: जल्द बढ़ सकते हैं बिजली के दाम, छह प्रतिशत दर बढ़ाने की याचिका पेश

जबलपुर। प्रदेशवासियों को नए साल में महंगाई का एक और झटका लगने वाला है. बिजली कंपनी ने विद्युत नियामक आयोग में दाम बढ़ाने के लिए एक याचिका दायर की है. जानकारी के मुताबिक बीते छह साल में प्रदेश की तीनों बिजली कंपनियों को टोटल 36 हजार 812 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है. प्रदेश में कृषि, घरेलू और व्यवसायिक उपभोक्ताओं की संख्या 1.50 करोड़ है, ऐसे में कहा जा सकता है कि मध्यप्रदेश का हर वंशीदा 25 हजार रुपए के बिजली कर्ज में है. जानकारी के मुताबिक प्रदेश की तीनों बिजली वितरण कंपनियों में सबसे ज्यादा घाटा 4752.48 करोड़ का…

Review Overview

User Rating: 4.9 ( 3 votes)

जबलपुर। प्रदेशवासियों को नए साल में महंगाई का एक और झटका लगने वाला है. बिजली कंपनी ने विद्युत नियामक आयोग में दाम बढ़ाने के लिए एक याचिका दायर की है. जानकारी के मुताबिक बीते छह साल में प्रदेश की तीनों बिजली कंपनियों को टोटल 36 हजार 812 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है. प्रदेश में कृषि, घरेलू और व्यवसायिक उपभोक्ताओं की संख्या 1.50 करोड़ है, ऐसे में कहा जा सकता है कि मध्यप्रदेश का हर वंशीदा 25 हजार रुपए के बिजली कर्ज में है.
जानकारी के मुताबिक प्रदेश की तीनों बिजली वितरण कंपनियों में सबसे ज्यादा घाटा 4752.48 करोड़ का पूर्व क्षेत्र को हुआ है, जिसके बाद अब कंपनियों ने विद्युत नियामक आयोग से अगले टैरिफ आदेश में उपभोक्ताओं से वसूलने की सत्यापन याचिका दायर की है. खास बात ये है कि जबलपुर में बिजली कंपनी का मुख्यालय है. इसके बाद भी पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी को सबसे ज्यादा घाटा हुआ है. वहीं सबसे कम घाटे में पश्चिम क्षेत्र है. बिजली कंपनियों ने पिछले पांच वित्तीय वर्ष 2014-15 से 2018-19 तक करीब 32 हजार करोड़ घाटे की सत्यापन याचिकाएं दायर की थीं. आयोग पूर्व के चार वित्तीय वर्ष के लिए 11 दिसंबर 2020 को और 2018-19 के लिए 5 जनवरी 2021 को जनसुनवाई कर चुका है. इस सुनवाई में आयोग के समक्ष कई लाेगों ने अपनी आपत्ति दर्ज कराई है, जिसके बाद अभी आयोग का निर्णय लंबित है.

याचिका में छह प्रतिशत दर बढ़ाने की मांग
तीनों बिजली वितरण कंपनियों की ओर से मप्र पावर मैनेजमेंट कंपनी पहले ही वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए औसत 6 प्रतिशत दर बढ़ाने की याचिका पेश कर चुकी है. इसमें घरेलू बिजली में करीब आठ प्रतिशत बढ़ोत्तरी का प्रस्ताव है. राज्य विद्युत नियामक आयोग ने प्रस्ताव स्वीकार किया तो बिजली दरों में प्रति यूनिट लगभग 32 पैसे की बढ़ोत्तरी हो जाएगी. प्रदेश के 1.50 करोड़ उपभोक्ताओं में एक करोड़ ऐसे उपभोक्ता हैं, जो 150 यूनिट तक बिजली खर्च करते हैं. इन पर ही सबसे ज्यादा बोझ पड़ेगा.

जबलपुर। प्रदेशवासियों को नए साल में महंगाई का एक और झटका लगने वाला है. बिजली कंपनी ने विद्युत नियामक आयोग में दाम बढ़ाने के लिए एक याचिका दायर की है. जानकारी के मुताबिक बीते छह साल में प्रदेश की तीनों बिजली कंपनियों को टोटल 36 हजार 812 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है. प्रदेश में कृषि, घरेलू और व्यवसायिक उपभोक्ताओं की संख्या 1.50 करोड़ है, ऐसे में कहा जा सकता है कि मध्यप्रदेश का हर वंशीदा 25 हजार रुपए के बिजली कर्ज में है. जानकारी के मुताबिक प्रदेश की तीनों बिजली वितरण कंपनियों में सबसे ज्यादा घाटा 4752.48 करोड़ का…

Review Overview

User Rating: 4.9 ( 3 votes)

About Dheeraj Bansal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

ग्वालियर और जयपुर राजघराने में गूंजेगी शहनाई, महाआर्यमान सिंधिया और गौरवी का रिश्ता तय!

सिंधिया राजघराने के राजकुमार महाआर्यमान और जयपुर की राजकुमारी गौरवी अब जल्द ...