Home / देखी सुनी / चुनाव के बाद अब सहकारी बाजार में निजी लोगों को गुपचुप मेंबरशिप

चुनाव के बाद अब सहकारी बाजार में निजी लोगों को गुपचुप मेंबरशिप

सहकारी बाजार जिला थोक उपभोक्ता भण्डार मर्यादित ग्वालियर अपने आप में हमेशा से नये-नये कारनामों को लेकर चर्चित रहा है। पिछले कुछ माह पहले गुपचुप बंद कमरे में चुनाव के मुददे ने तूल पकड़ा था। उसमे पूर्व अध्यक्ष बादशाह सिंह को हटाकर निर्वाचित हुये अध्यक्ष सुनील भदौरिया ने अपने आपको अध्यक्ष घोषित कर दिया था। अब इस व्यक्ति विशेष ने पद पर काबिज होने के बाद अपनी संस्थाओं एवं निजी लोगों को मेम्बरशिप देने का कार्य गुपचुप तरीेके से चालू कर दिया है। जबकि पूर्व में कुछ संस्थाओं ने आवेदन किया उनको भण्डार की मेम्बरशिप नहीं दी और आवेदन निरस्त…

Review Overview

User Rating: 4.85 ( 1 votes)


सहकारी बाजार जिला थोक उपभोक्ता भण्डार मर्यादित ग्वालियर अपने आप में हमेशा से नये-नये कारनामों को लेकर चर्चित रहा है। पिछले कुछ माह पहले गुपचुप बंद कमरे में चुनाव के मुददे ने तूल पकड़ा था। उसमे पूर्व अध्यक्ष बादशाह सिंह को हटाकर निर्वाचित हुये अध्यक्ष सुनील भदौरिया ने अपने आपको अध्यक्ष घोषित कर दिया था।
अब इस व्यक्ति विशेष ने पद पर काबिज होने के बाद अपनी संस्थाओं एवं निजी लोगों को मेम्बरशिप देने का कार्य गुपचुप तरीेके से चालू कर दिया है। जबकि पूर्व में कुछ संस्थाओं ने आवेदन किया उनको भण्डार की मेम्बरशिप नहीं दी और आवेदन निरस्त कर दिये गये। वहीं पूरे प्रकरण की जांच उपपंजीयक महोदय के संज्ञान में आने के बाद भी मामले का छुपाने का प्रयास किया जा रहा है। इस सबके पीछे नये अध्यक्ष द्वारा अपनी कारगुजारियां छुपाने के प्रयास में पूर्व सीओ अजय आहूजा को हटवा दिया है। आहूजा की जगह किसी गुप्ता को चार्ज दिया गया है, जो वर्तमान अध्यक्ष का साथ दे सकें। ऐसे में सहकारी बाजार में चल रहे कार्यों पर संदेह खड़े हो रहा है।
खबरीलाल……….

सहकारी बाजार जिला थोक उपभोक्ता भण्डार मर्यादित ग्वालियर अपने आप में हमेशा से नये-नये कारनामों को लेकर चर्चित रहा है। पिछले कुछ माह पहले गुपचुप बंद कमरे में चुनाव के मुददे ने तूल पकड़ा था। उसमे पूर्व अध्यक्ष बादशाह सिंह को हटाकर निर्वाचित हुये अध्यक्ष सुनील भदौरिया ने अपने आपको अध्यक्ष घोषित कर दिया था। अब इस व्यक्ति विशेष ने पद पर काबिज होने के बाद अपनी संस्थाओं एवं निजी लोगों को मेम्बरशिप देने का कार्य गुपचुप तरीेके से चालू कर दिया है। जबकि पूर्व में कुछ संस्थाओं ने आवेदन किया उनको भण्डार की मेम्बरशिप नहीं दी और आवेदन निरस्त…

Review Overview

User Rating: 4.85 ( 1 votes)

About Dheeraj Bansal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

शाबाशः टाउनहाॅल में आउटसोर्स कर्मचारियों की महीने भर की हाजिरी भरी

सरकारी महकमों में जो हा जाये वह कम है अब देखिये ना ...