Home / अंतरराष्ट्रीय

अंतरराष्ट्रीय

खुद के पांवों पर कुल्हाड़ी मार चुका हैं तालिबान

(राकेश अचल) अफगानिस्तान हथियाने के फेर में तालिबान फंस गया है. उसने काबुल हवाई अड्डे पर विस्फोट कर अपने ही पांवों पर कुलहाड़ी मार ली है. तालिबान को भविष्य में जिस अमेरिका से इमदाद मिलने की संभावनाएं थीं वे भी ...

Read More »

अमरीका में भी लालू का अवतार

*********** हिन्दुस्तान में हमारे एक अग्रज व्यंग्यकार श्री हरि जोशी ने एक उपन्यास लिखा है ‘ अमरीकी लालू ‘ .उपन्यास जल्द आने वाला ही लेकिन इससे पहले इस उपन्यास के नायक और अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अफगानिस्तान ...

Read More »

काबुल में असहाय लोकतंत्र की बुलबुल

(धीरज बंसल) अफगानिस्तान तालिबान की गिरफ्त में है,ठीक उसी तरह जैसे कोई बुलबुल शिकारी के हाथ में होती है .अफगानिस्तान में लोकतंत्र की बुलबुल जैसे-तैसे काबुल में छिपकर साँसें ले रही थी लेकिन अब उसका मुस्तकबिल भी महफूज नहीं है.पूरा ...

Read More »

काबुल से भागते वक्त चार कारें और हेलिकॉप्टर भरकर कैश ले गए पूर्व अफगान राष्ट्रपति गनी

काबुल स्थित रूस की एम्बेसी ने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी को लेकर हैरान करने वाला खुलासा किया है। सोमवार को रूस की RIA न्यूज एजेंसी ने अपनी एम्बेसी के हवाले से कहा- गनी मुल्क से भागते वक्त अपने साथ ...

Read More »

सब तुम्हारी तरह नहीं होते दानिश

दानिश सिद्दीकी से मेरी कभी मुलाक़ात नहीं हुई.हो भी नहीं सकती थी .वो मुम्बई का और मै ग्वालियर का पत्रकार.फिर भी मै दानिश को जानता था . दानिश सही मायनों में दानिश था,दानिश यानि शिक्षा,दानिश यानि विज्ञान ,दानिश हर मामले ...

Read More »

डिप्लोमेसी में बेकसूर आम को सजा

आम कूम आम होता है .उसका डिप्लोमेसी से क्या लेना-देना ? लेकिन पाकिसतानी हुक्मरान ये हकीकत समझते ही नहीं और खामखां ‘ आम डिप्लोमेसी’ कर बैठे. इस डिप्लोमेसी में पाकिसातन की फजीहत हुई सो हुई बेचारे आम की भी फजीहत ...

Read More »

पुतिन का सत्तामोह

सामान सौ बरस का पल की खबर नहीं ‘ लिखने वाले रूस के राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन के आत्मविश्वास को देखकर हैरान हो सकते हैं.सत्तर वर्ष के पुतिन ने 85 वर्ष की उम्र तक सिंघासन पार बने रहने का रास्ता अपने ...

Read More »

देश नहीं जिन्न है चीन

फीनिक्स के नए घर में बच्चों के लिए बागीचे में रखने के लिए आये झूले पर नजर पड़ी तो सर चकरा गया. ये झूला भी मेड इन चाइना निकला.इस झूले को संयोजित करने में दो घंटे लगे .बड़ी ही नफासत ...

Read More »

गोडसे के वंशज अमरीका में

कलियुग के महान जन नेता महात्मा गाँधी कभी अमेरिका नहीं गए लेकिन उनकी कीर्ति अमेरिका में अवश्य पहुंची और लगभग हर शहर में उनके उपासक मौजूद हैं और इसके साथ ही गांधी के विरोधी भी. अमेरिका में अदृश्य गांधी विरोधियों ...

Read More »

लोकतंत्र पर मंडराते संकट के बादल

ये तस्वीर किसी विवादित ढांचे की नहीं बल्कि दुनिया के सबसे ताकतवर लोकतंत्र के मंदिर की है।अमेरिका की संसद पर हमले की ये तस्वीर हमें डराती है। अमेरिका में सत्ता हस्तांतरण के पहले जो कुछ हुआ सो अकल्पनीय था। राष्ट्रपति ...

Read More »