Home / ग्वालियर / चप्पल खाने वाले पवन सिंघल के खिलाफ लोकायुक्त में है कई शिकायतें

चप्पल खाने वाले पवन सिंघल के खिलाफ लोकायुक्त में है कई शिकायतें

ग्वालियर। आखिर नगर निगम में चल रही घपलेबाजी पर महानगर के अंदर पहली चप्पल उठ गई। इस मामले में जिस अधिकारी पर महिला ने चप्पल से हमला बोला था उसके खिलाफ लोकायुक्त एवं आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो में भ्रष्टाचार आदि को लेकर कई शिकायतें की गई थी। मगर अब तक उसके खिलाफ किसी भी जांच को आगे नहीं बढ़ाया गया। नगर निगम में पदस्थ पवन सिंघल की पदस्थापना से लेकर वर्तमान कार्यकाल के घोटालों का कार्यकाल निगम के अंदर कहा जाता है। पिता के नगर निगम में रहने का फायदा उठाते हुये वहां पर टाइमकीपर के रूप में भर्ती होकर…

Review Overview

User Rating: 3.55 ( 2 votes)


ग्वालियर। आखिर नगर निगम में चल रही घपलेबाजी पर महानगर के अंदर पहली चप्पल उठ गई। इस मामले में जिस अधिकारी पर महिला ने चप्पल से हमला बोला था उसके खिलाफ लोकायुक्त एवं आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो में भ्रष्टाचार आदि को लेकर कई शिकायतें की गई थी। मगर अब तक उसके खिलाफ किसी भी जांच को आगे नहीं बढ़ाया गया।
नगर निगम में पदस्थ पवन सिंघल की पदस्थापना से लेकर वर्तमान कार्यकाल के घोटालों का कार्यकाल निगम के अंदर कहा जाता है। पिता के नगर निगम में रहने का फायदा उठाते हुये वहां पर टाइमकीपर के रूप में भर्ती होकर विभाग में सांठगांठ करते हुये उपयंत्री के पद पर पदस्थ हो गया। वहां से वर्ष 2013 में सिटी प्लानर नगर निवेशक के रूप में पदस्थ होकर महानगर में मनमाने ढंग से भवनों के संपूर्णता प्रमाण पत्र एवं अनुमति प्रदान की थी, जिसके बाद इस अधिकारी के खिलाफ लगातार शिकायतें होती रही। निगम के रहते हुये कई बिल्डरों को फायदा पहुंचाने का काम भी पवन सिंघल ने किया है, जिसके चलते बिल्डरों से साझेदारी के आरोप भी लगे है।
पवन सिंघल के खिलाफ कमाई से अधिक संपत्ति की शिकायतें भी हुई हैं। मगर उनमे लोकायुक्त या आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो द्वारा कार्रवाईयों को आगे नहीं बढ़ाया है।
चप्पल उतारते ही आगे खिसके थे सिंघल
महिला की आपत्तियों और उसके गुस्से को देखते हुये पवन सिंघल वहां से निकलने लगे। मगर उनसे तेज महिला ने पहले उनको चप्पल मार दी।
तत्कालीन निगमायुक्त द्विवेदी ने पकड़ी थी भ्रष्टाचारी
तत्कालीन निगमायुक्त पवन द्विवेदी द्वारा पवन सिंघल की भ्रष्टाचारी पकड़ते हुये ठोस कार्रवाई की गई थी। वहीं तत्कालीन कलेक्टर आकाश त्रिपाठी व तत्कालीन निगमायुक्त एनबीएस राजपूत ने भी इसके खिलाफ कार्रवाई के लिए अन्य अधिकारियों को पत्र लिखे थे। परंतु वर्तमान निगमायुक्त संदीप माकिन तो मुंह में गुड डालकर बैठे है।

ग्वालियर। आखिर नगर निगम में चल रही घपलेबाजी पर महानगर के अंदर पहली चप्पल उठ गई। इस मामले में जिस अधिकारी पर महिला ने चप्पल से हमला बोला था उसके खिलाफ लोकायुक्त एवं आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो में भ्रष्टाचार आदि को लेकर कई शिकायतें की गई थी। मगर अब तक उसके खिलाफ किसी भी जांच को आगे नहीं बढ़ाया गया। नगर निगम में पदस्थ पवन सिंघल की पदस्थापना से लेकर वर्तमान कार्यकाल के घोटालों का कार्यकाल निगम के अंदर कहा जाता है। पिता के नगर निगम में रहने का फायदा उठाते हुये वहां पर टाइमकीपर के रूप में भर्ती होकर…

Review Overview

User Rating: 3.55 ( 2 votes)

About Dheeraj Bansal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

मुख्य अभियंता ने गलत जानकारी देकर लोकतंत्र के मंदिर को किया गुमराह

ग्वालियर। लोकतंत्र की दुहाई देते हुये राजनेता और अधिकारी जनता के सामने ...