Home / राष्ट्रीय / पीएम मोदी का प्रदेश गुजरात बना देश का तीसरा सबसे भ्रष्ट राज्य

पीएम मोदी का प्रदेश गुजरात बना देश का तीसरा सबसे भ्रष्ट राज्य

 भ्रष्टाचार के अपराधों की संख्या के मामले में गुजरात GUJARAT देश में तीसरे स्थान पर है। नीति आयोग के आंकड़ों में यह 1,677.34 के सूचकांक के साथ सिर्फ तमिलनाडु और ओडिशा से पीछे है। प्रति करोड़ नागरिकों पर तमिलनाडु का भ्रष्टाचार-सूचकांक 2,492.45 जबकि, ओडिशा का सूचकांक 2,489.83 है। गुजरात विजीलेंस कमीशन की रिपोर्ट के मुताबिक, विगत 5 पांच वर्षों में भ्रष्टाचार से जुड़ी 40,000 से ज्यादा गुजरात में शिकायतें दर्ज हुईं।. गुजरात भ्रष्टाचार के मामलों में तीसरे नंबर पर उक्त पांच वर्षों के भ्रष्टाचार से जुड़े मामलों में 800 कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। इस रिपोर्ट को खुद राज्य…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

 भ्रष्टाचार के अपराधों की संख्या के मामले में गुजरात GUJARAT देश में तीसरे स्थान पर है। नीति आयोग के आंकड़ों में यह 1,677.34 के सूचकांक के साथ सिर्फ तमिलनाडु और ओडिशा से पीछे है। प्रति करोड़ नागरिकों पर तमिलनाडु का भ्रष्टाचार-सूचकांक 2,492.45 जबकि, ओडिशा का सूचकांक 2,489.83 है। गुजरात विजीलेंस कमीशन की रिपोर्ट के मुताबिक, विगत 5 पांच वर्षों में भ्रष्टाचार से जुड़ी 40,000 से ज्यादा गुजरात में शिकायतें दर्ज हुईं।.

गुजरात भ्रष्टाचार के मामलों में तीसरे नंबर पर

उक्त पांच वर्षों के भ्रष्टाचार से जुड़े मामलों में 800 कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। इस रिपोर्ट को खुद राज्य के गृह मंत्री प्रदीप सिंह जडेजा द्वारा पेश किया गया था। वहीं, एंटी करप्शन ब्यूरो (ACB) ने भी बताया कि 2018 में भ्रष्टाचार के मामलों की संख्या 2017 की तुलना में दोगुनी हो गई। यहां भ्रष्टाचार के अपराधों में शामिल अभियुक्तों की संख्या 2017 में 216 से बढ़कर 2018 में 729 हो गई।

राज्य को सबसे ज्यादा राजस्व विभाग ने बदनाम किया

राज्य में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार के मामले राजस्व विभाग में पाए गए। दूसरे स्थान पर अर्बन डेवलपमेन्ट और तीसरे स्थान पर गृह मंत्रालय रहे। यह तथ्य गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी को निशाने पर लेते हैं, जो अक्सर कहते रहे हैं कि उनकी सरकार में भ्रष्टाचार पर लगाम लगी है। किंतु, ये शिकायतें बता रही हैं कि वे भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों को रोक नहीं पा रहे हैं। राज्य का राजस्व विभाग एक ऐसा पहलू है, जिसमें कोई मंत्री या विभाग के शीर्ष अधिकारी भ्रष्टाचार पर लगाम नहीं लगा सके हैं।

 भ्रष्टाचार के अपराधों की संख्या के मामले में गुजरात GUJARAT देश में तीसरे स्थान पर है। नीति आयोग के आंकड़ों में यह 1,677.34 के सूचकांक के साथ सिर्फ तमिलनाडु और ओडिशा से पीछे है। प्रति करोड़ नागरिकों पर तमिलनाडु का भ्रष्टाचार-सूचकांक 2,492.45 जबकि, ओडिशा का सूचकांक 2,489.83 है। गुजरात विजीलेंस कमीशन की रिपोर्ट के मुताबिक, विगत 5 पांच वर्षों में भ्रष्टाचार से जुड़ी 40,000 से ज्यादा गुजरात में शिकायतें दर्ज हुईं।. गुजरात भ्रष्टाचार के मामलों में तीसरे नंबर पर उक्त पांच वर्षों के भ्रष्टाचार से जुड़े मामलों में 800 कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। इस रिपोर्ट को खुद राज्य…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

About Dheeraj Bansal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

ढाई महीने में एलआईसी को लगी 57 हजार करोड़ की चपत

बि​जनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक, जून तिमाही के अंत तक ...