Home / राजनीतिक / DIGVIJAY SINGH से तकरार के बाद सिंघार का मंत्री पद खतरे में

DIGVIJAY SINGH से तकरार के बाद सिंघार का मंत्री पद खतरे में

नयी दिल्ली। सोनिया गांधी की अदालत में सीएम कमलनाथ पेश हुए और ज्योतिरादित्य सिंधिया कोटे से वन मंत्री बने उमंग सिंघार की रिपोर्ट सौंपी। जैसा कि दिग्विजय सिंह इशारा कर चुके थे, कमलनाथ ने सोनिया गांधी को उमंग सिंघार का मामला पार्टी की अनुशासन समिति के पास भेजने के लिए राजी कर लिया। अब उमंग सिंघार का मंत्री पद खतरे में आ गया है। बता दें कि दिग्विजय सिंह गुट के विधायक ऐदल सिंह कंसाना ने भी कहा था कि 'जब छत पर बहुत सारे कौवे मंडरा रहे हों तो एक कौआ मारकर छत पर टांग देना चाहिए।' सोनिया के…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

नयी दिल्ली। सोनिया गांधी की अदालत में सीएम कमलनाथ पेश हुए और ज्योतिरादित्य सिंधिया कोटे से वन मंत्री बने उमंग सिंघार की रिपोर्ट सौंपी। जैसा कि दिग्विजय सिंह इशारा कर चुके थे, कमलनाथ ने सोनिया गांधी को उमंग सिंघार का मामला पार्टी की अनुशासन समिति के पास भेजने के लिए राजी कर लिया। अब उमंग सिंघार का मंत्री पद खतरे में आ गया है। बता दें कि दिग्विजय सिंह गुट के विधायक ऐदल सिंह कंसाना ने भी कहा था कि ‘जब छत पर बहुत सारे कौवे मंडरा रहे हों तो एक कौआ मारकर छत पर टांग देना चाहिए।’
सोनिया के आवास पर मुलाकात के बाद कमलनाथ ने संवाददाताओं से कहा कि मध्यप्रदेश प्रदेश के मुद्दों पर विधिवत चर्चा हुई। दिग्विजय-सिंघार विवाद के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह विषय पार्टी की अनुशासन समिति के पास भेजा जाएगा। उधर, कांग्रेस के मध्य प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया ने शुक्रवार शाम पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात कर अपनी रिपोर्ट सौंपी थी। सोनिया से मुलाकात के बाद बाबरिया ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा था कि राज्य में पार्टी से जुड़े हालिया घटनाक्रमों और पार्टी की स्थिति को लेकर उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष को अपनी रिपोर्ट दी है। उन्होंने यह भी कहा कि अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। बाबरिया ने कहा कि वरिष्ठ नेताओं का सम्मान होना चाहिए।

दीपक बावरिया की रिपोर्ट भी सिंघार के खिलाफ
दरअसल, बाबरिया की सोनिया से मुलाकात उमंग सिंघार और दिग्विजय सिंह के बीच बयानबाजी की पृष्ठभूमि में हुई है। सिंघार ने हाल ही में दिग्विजय पर ब्लैकमेलर, ट्रांसफर-पोस्टिंग करवाने और रेत खनन जैसे गंभीर आरोप लगाए थे। साथ ही उन्होंने कहा था कि दिग्विजय सिंह मिलने आएंगे तो वह उन्हें कड़वी चाय पिलाएंगे। इसके बाद दिग्विजय सिंह ने कहा था कि कांग्रेस के नेता अनुशासन में रहें। भाजपा को कोई मौका न दें। सिंघार की कड़वी चाय पिलाने के जवाब में दिग्विजय ने सिर्फ इतना ही कहा कि ‘ मुझे डायबिटीज नहीं है और मैं मीठी चाय पीता हूं।’

नयी दिल्ली। सोनिया गांधी की अदालत में सीएम कमलनाथ पेश हुए और ज्योतिरादित्य सिंधिया कोटे से वन मंत्री बने उमंग सिंघार की रिपोर्ट सौंपी। जैसा कि दिग्विजय सिंह इशारा कर चुके थे, कमलनाथ ने सोनिया गांधी को उमंग सिंघार का मामला पार्टी की अनुशासन समिति के पास भेजने के लिए राजी कर लिया। अब उमंग सिंघार का मंत्री पद खतरे में आ गया है। बता दें कि दिग्विजय सिंह गुट के विधायक ऐदल सिंह कंसाना ने भी कहा था कि 'जब छत पर बहुत सारे कौवे मंडरा रहे हों तो एक कौआ मारकर छत पर टांग देना चाहिए।' सोनिया के…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

About Dheeraj Bansal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

DIGVIJAY सिंहस्थ घोटाला पर पत्र क्यों नहीं लिखते, हमसे ट्रांसफर-पोस्टिंग का हिसाब मांगते हैं: उमंग सिंघार

भोपाल। पहली बार ज्योतिरादित्य सिंधिया की टीम ने दिग्विजय सिंह और कमलनाथ ...